- Advertisement -
- Advertisement -

Uttarakhand के विधायक दल की बैठक में Tirath Singh Rawat को सौंप दी गई CM पद की जिम्मेवारी

बीजेपी के वरिष्ठ नेता तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) को पार्टी ने त्रिवेंद्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) की जगह राज्य के मुखिया का कमान सौंप दिया गया है।


Uttarakhand CM Responsibility handed over to Tirath Singh Rawat: देश में चुनाव का माहौल ज़ोरो शोरों में चल रहा हैं। इस बीच अब उत्तराखंड (Uttarakhand) के नए मुख्यमंत्री का नाम सामने आ गया है। अब राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रचारक रहे और बीजेपी के वरिष्ठ नेता तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) को पार्टी ने त्रिवेंद्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) की जगह राज्य के मुखिया का कमान सौंप दिया गया है। बता दे इससे पहले धन सिंह रावत, सतपाल महाराज, अजय भट्ट और केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के नाम की चर्चा सुर्खियों में थी। हलाकि इस बीच पार्टी के विधायक दल की बैठक में तीरथ सिंह रावत को सीएम पद की जिम्मेवारी सौंपी गई हैं।

पौड़ी गढ़वाल लोकसभा सीट से सांसद तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) उत्तराखंड के 10वें मुख्यमंत्री होंगे। बुधवार को देहरादून में भाजपा प्रदेश मुख्यालय में आयोजित भाजपा विधानमंडल दल की बैठक में तीरथ सिंह रावत को सर्वसम्मति से विधानमंडल दल का नेता चुना गया। तीरथ का नेता चुना जाना सभी को चौंका गया, क्योंकि उनका नाम प्रमुख दावेदारों में शुमार नहीं किया जा रहा था। वे शाम चार बजे राजभवन में शपथ लेंगे। उनके साथ पांच से छह मंत्री भी शपथ ले सकते हैं।

ये भी पढ़े: PM Modi के जन्मदिन पर रिलीज होगी फिल्म ‘एक और नरेन’, Gajendra Chauhan निभाएंगे मुख्य भूमिका

उत्तराखण्ड दैवीय आपदा प्रबंधन सलाहकार समिति के अध्यक्ष रहे तीरथ सिंह वर्ष 2012 में चौबट्टाखाल विधानसभा से विधायक निर्वाचित हुए। वर्ष 2013 में उत्तराखण्ड भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बने और वर्ष 2017 में भाजपा के राष्ट्रीय सचिव बनाए गए।

भाजपा राष्ट्रीय सचिव, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व शिक्षा मंत्री तीरथ सिंह रावत वर्ष 1983 से लेकर 1988 राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रचारक रहे हैं। वे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के उत्तराखंड के संगठन मंत्री भी रह चुके हैं। इसी संगठन में उन्होंने राष्ट्रीय मंत्री की जिम्मेवारी भी निभाई है। इसके पहले वह हेमवती नंदन गढ़वाल विश्वविद्यालय में छात्र संघ के अध्यक्ष रह चुके हैं। वहीं, संयुक्त उत्तर प्रदेश में तीरथ सिंह रावत छात्र संघ मोर्चा (उत्तर प्रदेश) में प्रदेश उपाध्यक्ष रहे हैं।

इसके अलावा भारतीय जनता युवा मोर्चा (उत्तर प्रदेश) के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य रहने का भी उनको मौका मिला है। मालूम हो तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) 1997 में उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य निर्वाचित हुए। उस समय उन्हें विधान परिषद में विनिश्चय संकलन समिति का अध्यक्ष बनाया गया। वर्ष 2000 में नवगठित उत्तराखण्ड के प्रथम शिक्षा मंत्री रहे तीरथ सिंह को 2007 में भारतीय जनता पार्टी उत्तराखण्ड का प्रदेश महामंत्री बनाया गया था। इसके बाद वे प्रदेश चुनाव अधिकारी तथा प्रदेश सदस्यता प्रमुख भी रह चुके हैं।

आपको यह भी पसंद आ सकता है...
- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें