- Advertisement -
- Advertisement -

Farmer Protest: राकेश टिकैत से मिलने गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे राष्ट्रीय लोकदल के नेता जयंत चौधरी

कृषि कानूनों (Agriculture Laws) के खिलाफ गाजीपुर बॉर्डर (Ghazipur Border) पर किसान जमा होने लगे हैं। राष्ट्रीय लोकदल के नेता जयंत चौधरी शुक्रवार सुबह दिल्ली से सटे गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे।


Jayant Chaudhary meets Rakesh Tikait: देश में 26 जनवरी को हुई हिंसा के बाद कमजोर लग रहा किसान आंदोलन (Farmers Protest) एक बार फिर तेज होने लगा है। दरअसल कृषि कानूनों (Agriculture Laws) के खिलाफ गाजीपुर बॉर्डर (Ghazipur Border) पर किसान जमा होने लगे हैं। राष्ट्रीय लोकदल के नेता जयंत चौधरी शुक्रवार सुबह दिल्ली से सटे गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे। यहां वह भारतीय किसान यूनियन (BKU) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत से मिलने पहुंचे। बता दें कि गाजीपुर बॉर्डर पर धरना दे रहे बीकेयू ने आंदोलन वापस ले लिया है।

बीकेयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत की घोषणा के बाद पुलिस ने किसानों के तंबू हटाने शुरू कर दिए हैं। यहां की बिजली-पानी पहले ही काटी जा चुकी है। हालांकि राकेश टिकैत धरने से ना हटने की बात कह रहे हैं। उन्होंने तो यहां तक कह दिया है कि अगर प्रशासन उन्हें जबरन हटाने का प्रयास करेगा तो वह फांसी लगाकर आत्महत्या कर लेंगे।

ये भी पढ़े: Farmers Protest Updates: कृषि कानूनों को लेकर जारी किसानों का विरोध-प्रदर्शन खत्म, कही ये बड़ी बात

इससे पहले जयंत चौधरी ने भारतीय किसान यूनियन के धरने का समर्थन करते हुए गुरुवार शाम को ट्वीट किया था। अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा था, अभी चौधरी अजीत सिंह जी ने बीकेयू के अध्यक्ष और प्रवक्ता, नरेश टिकैत जी और राकेश टिकैत जी से बात की है। चौधरी साहब ने संदेश दिया है कि चिंता मत करो, किसान के लिए जीवन मरण का प्रश्न है। सबको एक होना है, साथ रहना है। बता दें कि कल सुबह जब बागपत में धरना दे रहे किसानों को पुलिस ने जबरन हटा दिया था, तब भी जयंत चौधरी ने ट्वीट कर यूपी सरकार का विरोध जताया था।

राकेश टिकैत को गिरफ्तार किए बिना लौटी पुलिस

गाजियाबाद प्रशासन ने किसान नेताओं को आधी रात तक धरना खत्म करने का अल्टीमेटम दिया था और किसान बॉर्डर खाली करने की तैयारी में लगे थे, लेकिन बाद में राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान आंसू छलकाते हुए किसानों से भावुक अपील की और माहौल बदल गया। इसके बाद पुलिस फोर्स को देर रात बैरंग वापस लौटना पड़ा गया।

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें