- Advertisement -
- Advertisement -

PM Narendra Modi ने कोरोना टीकाकरण कराने से पहले Nurses से मजाकिया अंदाज में की बात

वैक्सीन लगाने से पहले पीएम मोदी ने कहा- राजनेता मोटी चमड़ी वाले होते हैं, क्या आप उस निडिल का उपयोग कर रही हैं जिनका पशुओं की चिकित्सा के लिए उपयोग किया जाता है?


PM Modi Takes First Dose of Vaccine Covid-19: देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने सोमवार को कोरोना टीकाकरण (Coronavirus Vaccination) कराने से पहले नर्सों (Nurses) से मजाकिया अंदाज में कई बातें कही जिसे सुनकर नर्स भी हसने लगी। दरअसल पीएम मोदी ने दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में कोविड (COVID) वैक्सीन लगवाई। वैक्सीन लगाने से पहले पीएम मोदी ने कहा- राजनेता मोटी चमड़ी वाले होते हैं, क्या आप उस निडिल का उपयोग कर रही हैं जिनका पशुओं की चिकित्सा के लिए उपयोग किया जाता है? बस इस बात को सुनते ही नहीं नर्सों ने अपनी हसी रोक नहीं सकीं। टिका लगवाते हुए पीएम मोदी काफी खुश नजर आए। टीकाकरण के दौरान खींची हुई तस्वीरों को भी पीएम मोदी ने ट्वीट शेयर किया।

जब पीएम मोदी सुबह-सुबह एम्स पहुंचे तो उनकी अप्रत्याशित मौजूदगी से एम्स के मेडिकल स्टाफ में हड़बड़ी की स्थिति स्वाभाविक ही थी। इसे भांपते हुए पीएम मोदी ने तुरंत स्टाफ से बातचीत शुरू कर दी। उन्होंने नर्सों से उनके नाम, जन्म स्थान वगैरह के बारे में पूछा ताकि वे सहज हो सके।

ये भी पढ़े: Indian Railway News: बरेली से गुजरात के लिए अब चलेंगी स्पेशल ट्रेनें, जाने ट्रैन का समय

PM Modi Takes First Dose of Vaccine Covid-19

जिसके बाद तनाव के वातावरण को पूरी तरह सहज करने के लिए उन्होंने नर्सों से मजाकिया लहजे में पूछा कि क्या वे टीके के लिए पशुओं की चिकित्सा के लिए उपयोग की जाने वाली निडिल का उपयोग करेंगी। नर्सों को थोड़ी देर तक यह सवाल पूरी तरह से समझ में नहीं आया। इसके बाद पीएम मोदी ने उन्हें समझाया कि राजनेता बहुत मोटी चमड़ी वाले माने जाते हैं और इसलिए वे उनके लिए कुछ विशेष मोटी सुइयों का उपयोग करने की योजना भी बना रहे थे। यह सुनकर नर्सें न केवल हंसी, बल्कि सुकून से झूमने लगीं।

इसके बाद फिर जैसे ही टीकाकरण किया गया, पीएम मोदी ने कहा ये टीकाकरण हो भी गया और उन्हें पता भी नहीं चला। गौरतलब है कि दूसरे चरण के टीकाकरण अभियान के तहत, एक मार्च से वरिष्‍ठ नागरिकों और गंभीर बीमारियों से पीड़ित 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को टीका लगाया जा रहा है।

आपको यह भी पसंद आ सकता है...
- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें