- Advertisement -
- Advertisement -

Coronavirus Vaccine Price: भारत में कितनी हो सकती है कोरोना वैक्सीन की कीमत ? जाने पूरी डिटेल

Coronavirus Vaccine Price: कोरोना महामारी (Coronavirus) से इस वक्त पूरी दुनिया जूझ रही है। सभी को इस बीमारी से निजात पाने के लिए वैक्सीन का इंतजार है। वैक्सीन के साथ में लोगों को मन में कई सवाल भी हैं। सबसे बड़ा सवाल है कि जब भी कोरोना को मिटा देने वाली वैक्सीन मार्केट में आएगी, उसकी कीमत क्या होगी।


Coronavirus Vaccine Price: कोरोना महामारी (Coronavirus) से इस वक्त पूरी दुनिया जूझ रही है। सभी को इस बीमारी से निजात पाने के लिए वैक्सीन का इंतजार है। वैक्सीन के साथ में लोगों को मन में कई सवाल भी हैं। सबसे बड़ा सवाल है कि जब भी कोरोना को मिटा देने वाली वैक्सीन मार्केट में आएगी, उसकी कीमत क्या होगी। गुरुवार को हुए एक मीडिया समिट में पुणे बेस्ड सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के CEO ने बताया कि अदर पुनावाला ने बताया कि Covishield वैक्सीन मार्च-अप्रैल 2021 तक मार्केट में आने की उम्मीद है। ये वैक्सीन 2 डिग्री से 8 डिग्री के बीच में स्टोर की जा सकेगी और आम लोगों के लिए इसकी कीमत ₹500 से ₹600 के बीच रहने के संभावना है। उन्होंने कहा कि सरकार को ये वैक्सीन करीब ₹225 से ₹300 के बीच पड़ेगी क्योंकि वो बड़ी मात्रा में इसकी खरीद करेंगे।

अदर पुनावाला ने बताया कि SII अगले महीने फ्रंटलाइन वर्कर्स और बुजुर्गों पर ‘कोविशिल्ड’ के सीमित उपयोग की आपातकालीन स्वीकृति के लिए भारत के शीर्ष दवा नियामक के पास अप्लाई करेगा। आपको बता दें कि Covishield यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड और AstraZeneca द्वारा बनाई जा रही कोरोना वैक्सीन का नाम है। इसका भारत में SII द्वारा उत्पादन किया जाना है। अदर पुनावाला ने कहा कि जैसे ही यूके में Authorities इसके आपतकालीन उपयोग की मंजरी देते हैं, उसके बाद हम भारत में DGCI से फ्रंटलाइन वर्कर्स पर सीमित उपयोग के लिए अनुमति मांगेंगे।

ये भी पढ़े: Coronavirus Virus: नोएडा में कोरोना के 167 नए मामले आए सामने, एक की हुई मौत

पुनावाला ने कहा कि हम यूके में सकारात्मक परिणामों के आधार पर एक आपातकालीन लाइसेंस की धारणा को आधार बना रहे हैं… अगर हमें यूके में नवंबर के अंत या दिसंबर की शुरुआत में अच्छे परिणाम नजर आते हैं तो हम वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग के लिए अप्लाई करे देंगे। उन्होंने कहा कि अगर सब कुछ प्लान के हिसाब से रहता है तो फ्रंटलाइन वारियर्स को जनवरी-फरवरी और आम लोगों को मार्च-अप्रैल को वैक्सीन मिलने की संभावना है।

कोरोना वायरस की वैक्सीन पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में 200 से ज्यादा वैक्सीन कैंडिडेट हैं, जिनमें 30 भारत में हैं। उन्होंने कहा, ‘इनमें से 5 अडवांस स्टेज में हैं, जिनमें से 2 क्लिनिकल ट्रायल के थर्ड फेज में हैं। ऐसे में मुझे उम्मीद है कि 2021 के शुरुआती 2-3 महीनों में वैक्सीन मिलनी शुरू हो जाएगी। इसके बाद अगस्त-सितंबर तक 30 करोड़ लोगों को वैक्सीन देने की स्थिति में होंगे।’

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें