- Advertisement -
- Advertisement -

Om Birla का बड़ा फैसला, सांसदों को अब नहीं मिलेगी यह सुविधा

लोकसभा स्‍पीकर ओम बिरला (Om Birla) ने मंगलवार को कहा कि संसद की कैंटीन में सांसदों को भोजन पर दी जाने वाली सब्सिडी पर रोक लगा दी गई है।


India Tourism Development Corporation: संसद भवन (Parliament House) परिसर की कैंटीन में अब सांसदों को सब्सिडी वाला खाना नहीं मिलेगा। लोकसभा स्‍पीकर ओम बिरला (Om Birla) ने मंगलवार को कहा कि संसद की कैंटीन में सांसदों को भोजन पर दी जाने वाली सब्सिडी पर रोक लगा दी गई है। ओम बिरला ने कहा, ”सांसदों, अन्य को संसद में कैंटीन के भोजन पर दी जाने वाली सब्सिडी रोक दी गई है।”

कैंटीन को अब चलाएगा इंडियन टूरिज्म डेवलपमेंट कॉरपोरेशन (India Tourism Development Corporation)

उन्होंने बताया कि संसद की कैंटीन को अब इंडियन टूरिज्म डेवलपमेंट कॉरपोरेशन (India Tourism Development Corporation) चलाएगा। इससे पहले उत्तरी रेलवे के पास ये जिम्मेदारी थी। कैंटीन में एक थाली की कीमत 30 रुपये थी। ओम बिरला ने कहा, ”29 जनवरी से शुरू होने वाले संसद सत्र के दौरान राज्यसभा की कार्यवाही सुबह नौ बजे से दोपहर दो बजे तक होगी, लोकसभा की कार्यवाही शाम चार से रात आठ बजे तक होगी।”

ये भी पढ़े: UP MLC Election 2021: बीजेपी के 10 और एसपी के 2 प्रत्याशियों का निर्विरोध निर्वाचन तय, निर्दलीय उम्मीदवार का नामांकन रद्द

सभी सांसदों से कोविड-19 जांच कराने का अनुरोध

उन्होंने कहा कि संसद सत्र शुरू होने से पहले सभी सांसदों से कोविड-19 (Covid-19) जांच कराने का अनुरोध किया जाएगा। सांसदों के आवास के निकट भी उनके आरटी-पीसीआर कोविड-19 परीक्षण किए जाने के प्रबंध किए गए हैं। बिरला ने कहा कि संसद परिसर में 27-28 जनवरी को आरटी-पीसीआर जांच की जाएगी, सांसदों के परिवार, कर्मचारियों की आरटी-पीसीआर जांच के भी प्रबंध किए गए हैं।

बिरला ने कहा कि सांसदों के आवास के निकट भी उनके आरटी-पीसीआर कोविड-19 परीक्षण किए जाने के प्रबंध किए गए हैं। लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि केंद्र, राज्यों द्वारा निर्धारित की गई टीकाकरण अभियान नीति सांसदों पर भी लागू होगी। बिरला ने कहा कि संसद सत्र के दौरान पूर्व निर्धारित एक घंटे के प्रश्नकाल की अनुमति रहेगी।

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें