- Advertisement -
- Advertisement -

एमबीए बना रेडियो जॉकी, अब बन गया किसान।


भारतीय प्रधान मंत्री ने ‘आत्मानिर्भर भारत’ का आह्वान किया और आरजे रौनक ने उनकी बात को अपने जीवन में अपनाया। एक एमबीए, जो कभी बी-स्कूल से डेस्क जॉब कर रहा था, उसने आर जे बनने के लिए अपनी नौकरी छोड़ दी, अंततः एशिया में सबसे अधिक फॉलो किए जाने वाले आरजे में से एक बन गया। एक आरजे होने के अलावा, रौनक एक टेलीविजन एंकर, एक सामाजिक उद्यमी और एक आध्यात्मिक साधक भी रहे हैं। राजनीति से लेकर क्रिकेट और फिल्मों तक – आम आदमी को प्रभावित करने वाले विषयों पर उनका स्व-निर्मित किरदार ‘बऊआ ‘ श्रोताओं के बीच बहुत ही लोकप्रिय है।

पहले लॉकडाउन के समय, उन्होंने ‘भारत इज बेस्ट’ की शुरुआत की – जो हमारे आसपास के लोगों के जीवन को प्रभावित करने के लिए एक अभियान है – जो खेती और कृषि के व्यवसाय में हैं। जैसा कि हम जानते हैं कि भारत की लगभग 58% आबादी के लिए, कृषि ही आजीविका का प्राथमिक स्रोत है। टीम ‘भारत इज बेस्ट’ (BIB) ने देश के कोने-कोने से प्रगतिशील और उद्यमी किसानों का चयन किया और उनके साथ मिलकर वीडियो शूट किए, जो हर रविवार रौनक के सोशल मीडिया चैनलों पर प्रसारित किए जाते हैं। अभियान पर टिप्पणी करते हुए, आरजे रौनक ने कहा; “बीआईबी हमारी एक व्यक्तिगत पहल है। हम अपने देश की जिन कहानियों से सीख सकते थे, और जो अत्यधिक प्रेरक थीं – उन्हें इन वीडियो के माध्यम से दूसरे किसान भाई और कृषि व्यवसाय से जुड़े लोगों तक पहुंचा रहे हैं। कुछ किसानों को सुपरफूड उगाने में सफलता मिली, कुछ को खाद्य प्रसंस्करण में मूल्यवर्धन के साथ, कुछ को निर्यात के साथ, कुछ को जैविक और औषधीय खेती के साथ, आदि। इन वीडियो को 70 लाख से ज्यादा देशवासियों ने देखा और पसंद किया है। अब तक हमने 11 राज्यों में 26 किसानों के वीडियो प्रदर्शित किए हैं।”

पिछली दिवाली, रौनक ने ‘ये दीवाली, किसानो वाली’ मुहिम की शुरुआत की। इसमें टीम बीआईबी ने किसानों से कच्चा माल खरीदा, उससे कुकीज़ बनाई, और उन्हें ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से बेचा। कई कुकीज भारतीय सेना के जवानों को भी वितरित किए गए। ‘मशरूम गर्ल ऑफ इंडिया’ दिव्या रावत के साथ; मिशन मशरूम नामक एक अन्य पहल की गई। इस पहल में मशरूम की खेती को प्रोत्साहित किया गया। वर्तमान में, रौनक और टीम बीआईबी ने गुजरात के कच्छ और सूरत में मॉडल फार्म विकसित किए हैं। रौनक बहुपरत खेती कर रहा है और एक बार मॉडल विकसित हो जाने के बाद, यह सीख किसानों तक पहुंचाई जाएगी। “मैं ऐसे और मॉडल फार्म विकसित करना चाहता हूं। मैं महात्मा गांधी के इस कथन पर दृढ़ विश्वास करता हूं कि व्यक्ति को वह परिवर्तन स्वयं में लाना होगा, जो वह इस दुनिया में देखना चाहता है। मुझे उम्मीद है कि अधिक से अधिक युवा आगे आएंगे और हमारा देश सच्चे अर्थों में आत्मानिर्भर बनेगा” आरजे ने कहा।

आपको यह भी पसंद आ सकता है...
- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें