- Advertisement -
- Advertisement -

Delhi Police द्वारा दो संदिग्धों को किया गया गिरफ्तार,बरामद हुए पिस्टल और कारतूस

Delhi Police Special Cell: दिवाली के बाद अब दिल्ली पुलिस (Delhi Police) को बड़ी सफलता मिली है। दरअसल राजधानी दिल्ली को दहलाने की कोशिश कर रहे है दो संदिग्धों को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार कर लिया है।


Delhi Police Special Cell: दिवाली के बाद अब दिल्ली पुलिस (Delhi Police) को बड़ी सफलता मिली है। दरअसल राजधानी दिल्ली को दहलाने की कोशिश कर रहे है दो संदिग्धों को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार कर लिया है। ये दोनों संदिग्ध जम्मू-कश्मीर के रहने वाले हैं। राजधानी के सरायकाले खां इलाके से इन दोनों संदिग्धों की गिरफ्तारी हुई। पुलिस ने इनके पास से दो सेमी ऑटोमेटिक पिस्टल और 10 जिंदा कारतूस भी बरामद की हैं।

अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि 22 वर्षीय अब्दुल लतीफ मीर बारामूला जिले के डोरू गांव का निवासी है जबकि 20 वर्षीय मोहम्मद अशरफ खटाना कुपवाड़ा जिले के हाट मुल्ला गांव का रहनेवाला है। इन दोनों को सोमवार रात में गिरफ्तार किया गया।

ये भी पढ़े: CM Yogi Adityanath ने लॉन्च की ‘श्री गोरखनाथ आशीर्वाद’ अगरबत्ती, खासियत जानकर दंग रह जाएंगे…

Delhi Police Special Cell

पुलिस उपायुक्त (विशेष प्रकोष्ठ) संजीव कुमार यादव ने बताया, ‘‘प्राप्त जानकारी के आधार पर सराय काले खां के मिलेनियम पार्क के निकट जाल बिछाया गया और जम्मू-कश्मीर के रहनेवाले दो संदिग्ध आतंकवादियों को करीब सवा 10 बजे पकड़ा गया।’’ उन्होंने बताया कि इन दोनों के पास से दो सेमी-ऑटोमेटिक पिस्तौल और 10 कारतूस बरामद हुए हैं।

लतीफ और अशरफ पहले जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा के रास्ते POK जाने की कोशिश कर चुके थे लेकिन आर्मी की भारी तैनाती और चौकसी की वजह से नाकाम रहे। दिल्ली में वारदात को अंजाम देने के बाद नेपाल के रास्ते POK जाने की फिराक में थे। एजेंसियां इनके मोबाइल को खंगाल रही है, नेटवर्क से और लोग भी जुड़े हुए हैं।

वही दूसरी ओर आपको बता दे राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पिछले एक सप्ताह में कोविड-19 महामारी के कारण हर घंटे तीन से ज्यादा लोगों की जान जा रही है। रविवार को 95 कोविड-19 मरीजों की मौत हो गई। यह डेली कोरोना डेथ के मामले में तीसरा सबसे बड़ा आंकड़ा है। नवंबर में दिल्ली में अब तक हुई कुल कोविड मौतों का आंकड़ा 1,103 पर पहुंच चुका है। इसका मतलब है कि 15 दिनों में हर दिन औसतन 73.5 मौतें हुईं। इसके हिसाब से ऐसा कहा जा सकता है कि हर घंटे तीन मौतें हुई।

आपको यह भी पसंद आ सकता है...
- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें