- Advertisement -
- Advertisement -

Govinda के जन्म से पिता हो गए थे नाराज़, सालों तक नहीं किया था बेटे को स्वीकार!

अभिनेता गोविंदा अपने समय के सबसे कामयाब अभिनेताओं में से एक रहे हैं। उन्होने कई शानदार फिल्में की हैं, लेकिन उनके जन्म पर पिता इतना नाराज हो गए थे कि सालों तक बेटे को गोद में नहीं लिया था


Govinda Unknown Facts: फिल्म अभिनेता गोविंदा ने अपनी कड़ी मेहनत के दम पर इस मायानगरी में अपना मुकाम हासिल किया था। गोविंदा ने जब फिल्म इल्जाम के जरिए सफलता हासिल की तब उनकी मुश्किलें और परिवार की तंगहाली दूर होने लगी थी। गोविंदा का पूरा नाम गोविंद अरूण आहूजा है। गोविंदा के पिता अरूण कुमार आहूजा अपने जमान के एक मशहूर एक्टर और प्रोड्यूसर थे। लेकिन बाद में आर्थिक तंगी की वजह से काफी परेशानियां इस परिवार को झेलनी पड़ी थी। गोविंदा जब बड़े हुए तो उन्होने निश्चय किया कि वो पिता का खोया मुकाम फिर से हासिल करेंगे और 1986 में रिलीज उनकी पहली ही फिल्म इल्जाम सुपरहिट रही।

इस फिल्म की कामयाबी के बाद गोविंदा की पहचान एक बेहतरीन डांसर और एक्टर के रूप में हुई। बाद मे गोविंदा ने अपनी कॉमेडी से भी लोगों का दिल जीता और फिर करियर के आखिर दौर में वो राजनेता भी बन गए। राजनेता बनने के बाद फिल्मों से भी दूरी गोविंदा ने बना ली थी..हालात फिर ऐसे बने कि वो फिर से फिल्मों में एक्टिव हो गए हैं। लेकिन बात अगर गोविंदा के पैदाइश की करें तो शायद गोविंदा ऐसे पहले बेटे होंगे जिनकी पैदाइश से पिता खुश नहीं थे और ये बात सच भी है कि गोविंदा के पिता अरूण अहूजा अपने बेटे के जन्म से इस कदर नाराज थे कि सालों तक उन्होने गोविंदा को गोद में भी नहीं उठाया था। इसके पीछे कहा जाता है कि गोविंदा के पिता की नाराज़गी उनकी मां से थी। जो गोविंदा के जन्म से पहले ही साध्वी बन गई और साध्वी बनने के बाद गोविंदा के पिता से उनके संबंध टूट गए।

दरअसल गोविंदा की मां के बारे में कहा जाता है कि वो मुस्लिम परिवार से थी औऱ उनका नाम नाजिम था शादी के बाद वो नाजिम से निर्मला बन गई थी। पहले निर्मला भी एक एक्ट्रेस थी लेकिन धीरे धीरे उनका मन आध्यात्म की ओर जुड़ गया और गोविंदा के जन्म के पहले ही वो साध्वी बन गई। गोविंदा के पिता उनकी मां से इसलिए नाराज थे और जन्म के समय गोविंदा को स्वीकार नहीं किया था..लेकिन कहते है न कि वक्त बदलते देर नहीं लगती। समय बदला और परिवार में सबका मनमुटाव दूर हुआ और बाद में गोविंदा के पिता ने उन्हे स्वीकार किया।

गोविंदा ने फिल्मों में फिल्म इल्जाम के जरिए जबरदस्त सफलता हासिल की और हिंदी सिनेमा के मेनस्ट्रीम के वो हीरो बन गए। 80 और 90 के दशक में गोविंदा की कई कामयाब फिल्में रिलीज हुई और देखते ही देखते वो सभी के चहेते बन गए।

ये भी पढ़े: Kangana Ranaut ने पूरी की Emergency की शूटिंग, कहा- फिल्म के लिए गिरवी रखी सारी संपत्ति

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें