- Advertisement -
- Advertisement -

Anand Gandhi की ‘Tumbbad’ ने आज रिलीज़ के 3 साल किये पूरे, वाइल्डबीस्ट’ नामक एक अन्य हॉरर स्टोरी पर चल रहा है काम

आनंद गांधी ने आज फिल्म की तीसरी सालगिरह पर साझा करते हुए कहा,"मैंने अपने जीवन के सबसे महत्वपूर्ण वर्ष तुम्बाड बनाने में लगाए है और इसने मुझे बदल दिया है।"


Anand Gandhi’s Tumbbad completes 3 years: आनंद गांधी (Anand Gandhi) ने आज फिल्म की तीसरी सालगिरह (3 Years Of Tumbbad) पर साझा करते हुए कहा,”मैंने अपने जीवन के सबसे महत्वपूर्ण वर्ष तुम्बाड बनाने में लगाए है और इसने मुझे बदल दिया है।”

आनंद गांधी (Anand Gandhi Instagram) उन कुछ फिल्म निर्माताओं में से एक हैं जो जोखिम उठाने की हिम्मत रखते हैं और उस का परिणाम उनकी सफल फिल्में रही हैं। फिल्म निर्माता ने एक अलग तरह के सिनेमा का बीड़ा उठाया है और ऑफबीट विषयों पर फिल्में बनाई हैं जिसके परिणामस्वरूप शिप ऑफ थीसस, तुम्बाड आदि जैसी हिट फिल्में दी हैं। अब, जैसा कि फिल्म तुम्बाड ने आज रिलीज के तीन साल पूरे कर लिए हैं, ऐसे में निर्देशक ने साझा करते हुए यह कहा है।

आनंद गांधी (Anand Gandhi Photos) कहते हैं,”मैंने अपने जीवन के सबसे महत्वपूर्ण वर्षों को तुम्बाड बनाने में लगाया है और इसने मुझे बदल दिया है – इसने मुझे अपनी इंटीरियर अंसाइटी और निंदक को फिल्म के माध्यम से बोलने की अनुमति देना सिखाया है और ना ही सिर्फ अपनी कला को मेरे पहले के काम के तर्कसंगत आशावाद तक सीमित रखा है। मैं अब एक और डरावनी कहानी पर काम कर रहा हूं जिसका नाम वाइल्डबीस्ट है।”

हॉरर जॉनर की बात करें तो फिल्म निर्माता की ओर से आने वाली एक और डरावनी कहानी के बारे में जानना निश्चित रूप से रोमांचक है। आनंद की तुम्बाड को हाल के दिनों में बॉलीवुड की बेस्ट पीरियोडिक हॉरर फिल्म के रूप में पहचाना जाता है। निर्देशक ने न केवल कहानी बल्कि, फिल्म के सभी पहलुओं पर जीत हासिल की है, यही वजह है कि फिल्म को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसा मिली है। तुम्बाड को 64वें फिल्मफेयर पुरस्कार में आठ नामांकन प्राप्त हुए थे, जिसमें बेस्ट सिनेमेटोग्राफी, बेस्ट आर्ट डायरेक्शन और बेस्ट साउंड डिजाइन के लिए तीन पुरस्कार जीते है। इसे सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार मिला है और गज्जर पार्थ ने स्क्रीमफेस्ट इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में बेस्ट विसुअल इफ़ेक्ट जीता है। सिटजेस फिल्म फेस्टिवल में पंकज कुमार ने बेस्ट सिनेमैटोग्राफी का पुरस्कार जीता और राही अनिल बर्वे, आदेश प्रसाद और आनंद गांधी ने एशिया फोकस पुरस्कार अपने नाम करने में सफल रहे हैं।

इस साल की शुरुआत में, आनंद गांधी ने ओके कंप्यूटर शो का निर्माण किया था जो बॉलीवुड में पहली साइंस-फाई कॉमेडी थी। यह शो एक अन्य आउट-ऑफ-द-बॉक्स आईडिया था जिसका साहसी फिल्म निर्माता ने समर्थन किया था। हाल ही में, फिल्म निर्माता ने एक राजनीतिक खेल, शाशन का भी समर्थन किया है जिसका एक सीक्वल इस साल जारी किया गया था। ऐसे में, तुम्बाड के साथ एक बेंचमार्क बनाने के लिए टीम को ढ़ेर सारी बधाई!

ये भी पढ़े: फिल्म ‘शहजादा’ में Kartik Aryan और Kriti Sanon का रोमांटिक अंदाज जीत लेगा आपका दिल!!

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें