- Advertisement -
- Advertisement -

Dasvi: आगरा सेंट्रल जेल में शूटिंग के दौरान कैसा था अभिषेक बच्चन का अनुभव, बताई खास बाते

फिल्म 'दसवीं' में मुख्य भूमिका निभा रहे अभिषेक बच्चन ने शूट के दौरान असली जेल में शूटिंग करने का अपना अनुभव शेयर किया। साथ ही फिल्म को लेकर अपना उत्त्साह भी जाहिर किया


Abhishek Bachchan Shares Experience: एक्टर अभिषेक बच्चन (Abhishek Bachchan) ओटीटी प्लेटफॉर्म (OTT Platform) पर एक के बाद एक फिल्मों और वेब सिरीज की लाइन लगा रहे हैं। वैसे तो अभिषेक का फिल्मी करियर हमेशा से उतार-चढ़ाव से भरा रहा है। लेकिन जबसे उन्होंने ओटीटी पर कमबैक किया है, मानो उन्हें सफलता का वो रास्ता मिल गया हो जिसे वो लम्बे अर्से से तलाश रहे थे। 

बीते दो साल से आ रहीं उनकी फिल्मों में उनका अभिनय काबिले-तारीफ रहा है। और अब डायरेक्टर तुषार जलोटा की फिल्म ‘दसवीं’ में लीड रोल निभाते हुए वे नजर आएंगे। रिपोर्ट्स के अनुसार इस फिल्म में अभिषेक का किरदार कुछ ऐसा है, कि वो जेल से अपनी दसवीं की परीक्षा देते हैं, ऐसे में जेल के अंदर शूटिंग करने के दौरान अपने एक्सपीरियंस को उन्होंने सभी दर्शकों के साथ शेयर किया है।

कहा और कैसे हुई दसवीं’ की शूटिंग

बॉलीवुड की ज्यादातर फिल्मों में जेल का सीन दिखाने के लिए असली जेल की डिजाईन देकर अलग से सेट बनाया जाता है। लेकिन अगर ‘दसवीं’ फिल्म की बात करें तो इसके हर सीन को  किसी सेट पर नही बल्कि आगरा सेंट्रल जेल के अंदर शूट किया गया है। हाल ही में दिए गए एक इंटरव्यू में अभिषेक बच्चन ने जेल में शूटिंग करने के दौरान अपने एक्सपीरियंस को शेयर करते हुए कहा- इस फिल्म में मेरे कैरेक्टर का नाम गंगा है जो कि आगरा सेंट्रल जेल  के एक बैरक में 6 हफ्ते तक शूट किया गया। हो सकता है कुछ एक्टर्स को सेट पर शूट करना ज्यादा पसंद ना आता हो लेकिन मुझे इस बात की बेहद खुशी है कि डायरेक्टर तुषार ने मुझे इस जगह पर शूटिंग करने का मौका दिया। आप भले ही कितनी भी अच्छी डिजाइनिंग करके एकदम रियल लोकेशन जैसा सेट तैयार करवालो लेकिन सच तो यही है कि जो फुटेज आपको रियल लोकेशन्स पर शूट करने से मिलता है वो सेट पर शूट करके कभी मिल ही नही सकता है।   

जेल के कैदियों को लेकर अभिषेक के विचार

अभिषेक बच्चन ने जेल के कैदियों के बारे में बात करते हुए कहा- आज तक जिस तरह से फिल्मों में कैदियों को दर्शाया गया है, उससे हम शुरुआत में थोडा सा घबराए हुए थे। लेकिन जेल के अंदर पहुचने के बाद कैदियों के साथ शूट करते समय वैसा कुछ भी महसूस नही हुआ। इसे देखकर मुझे लगा कि हमारे सिनेमा में आजतक सिर्फ कैदियों का डार्क साइड ही दिखाया गया है।

ये भी पढ़े: Rashmika Mandanna Birthday: एक्ट्रेस के जन्मदिन के ख़ास मौके पर जानें उनकी फिल्मी करियर की पूरी कहानी  

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें