‘ऐसी फिल्म तो मेरा कुत्ता भी ना करेगा..’ जिस फिल्म को Rajkumar ने ठुकराया उसी से Dharmendra बन गए थे सुपरस्टार!

राजकुमार को रामानंद सागर ने अपनी फिल्म में कास्ट करने के लिए सोचा। वह चाहते थे कि राजकुमार इस फिल्म को करें लेकिन राजकुमार ने न कहा दिया।

धर्मेंद्र और राजकुमार दोनों ही हिंदी सिनेमा के टॉप अभिनेता रहे हैं और इन दोनों ने ही अपने-अपने करियर में सुपरहिट फिल्मों में काम किया। जहां राजकुमार का अपना एक अलग अंदाज है तो वहीं धर्मेंद्र का भी अपना एक अलग स्टाइल है लेकिन एक फिल्म ऐसी जो राजकुमार ने ठुकराई तो धर्मेंद्र की किस्मत बनकर सामने आई। तो चलिए जानते हैं इस फिल्म के बारे में…

ऐसे रिजेक्ट कर दी थी फिल्म
‘सौदागर’, ‘तिरंगा’, ‘नीलकमल’ और ‘पाकीज़ा’ जैसी सुपरहिट फिल्मों में अपना अभिनय दिखाने वाले मशहूर अभिनेता राजकुमार बहुत मुंहफट थे। वह बातों ही बातों में कुछ ऐसा कह जाते थे जिससे लोगों को गुस्सा आ जाता था, हालांकि कई लोग उनकी बातों को दिल से नहीं लगाते थे। इसी बीच राजकुमार को रामानंद सागर ने अपनी फिल्म ‘आंखें’ में कास्ट करने के लिए सोचा। वह चाहते थे कि राजकुमार इस फिल्म को करें और उन्होंने राजकुमार को इस फिल्म की कहानी भी सुनाई, लेकिन राजकुमार को इस फिल्म की स्क्रिप्ट पसंद नहीं आई।

धर्मेंद्र को ऐसे मिला रोल
जब रामानंद उन्हें इस फिल्म की कहानी सुना रहे थे तो बीच में ही राजकुमार ने अपने घर के पालतू कुत्ते को बुलाया और उसके सामने फिल्म की कहानी सुनाने को कहा। और पूछा कि क्या तुम ये फिल्म करोगे? फिर राजकुमार ने रामानंद सागर से कहा कि, “देखो मेरा कुत्ता भी इस फिल्म में काम नहीं करना चाहता।”

फिर क्या था? रामानंद सागर को राजकुमार की इस हरकत का बहुत बुरा लगा और वहां से चले गए। इसके बाद उन्होंने इस फिल्म में धर्मेंद्र को लिया और यह फिल्म साल 1968 की ब्लॉकबस्टर फिल्म साबित हुई। या यूँ कहे कि इस फिल्म ने धर्मेंद्र के करियर में चार चांद लगा दिए थे।

ये भी पढ़ें:बड़े ही दिलफेंक आशिक हैं Dharmendra, 2 शादियों के बाद भी 26 साल छोटी एक्ट्रेस से कर बैठे थे इश्क!

ताज़ा ख़बरें