- Advertisement -
- Advertisement -

Ramesh Sippy को फिल्मों की Success ने बनाया कामयाब डायरेक्टर, जानिए कैसे ऑडिशन देने आई एक लड़की से उन्हे हो गया था प्यार

हिंदी सिनेमा के जाने माने निर्माता-निर्देशक रमेश सिप्पी आज अपना 79वां जन्मदिन मना रहे हैं। जानते हैं कि कैसे ऑडिशन देने आई अपने से 23 साल छोटी एक लड़की से उन्हे प्यार हो गया


Ramesh Sippy Birthday: हिंदी सिनेमा में ऐसे कम ही निर्माता-निर्देशक होंगे, जिन्होने छोटी सी उम्र में ही फिल्म बनाने का ककहरा सीख लिया होगा। राजकपूर,मनमोहन देसाई के अलावा शायद वो नाम फिल्म निर्माता-निर्देशक रमेश सिप्पी का है। जिन्होने करीब 6 साल की उम्र से ही फिल्मों को बनते देखा और फिर फिल्म मेकिंग के प्रति उनकी दीवानगी ने उन्हे एक समय बेहतरीन निर्देशकों की श्रेणी में ला खड़ा किया था। 23 जनवरी 1944 को जन्मे रमेश सिप्पी आज अपनी 79वां जन्मदिन मना रहे हैं। ऐसे में आइए जानते हैं उनकी फिल्मी लाइफ के कुछ अनछुए पहलुओं के बारे में, जिसके बारे में आप शायद ही जानते होंगे।

रमेश सिप्पी वैसे मशहूर प्रोड्यूसर जीपी सिप्पी के बेटे हैं। जीपी सिप्पी फिल्मों में उस वक्त बड़ा नाम था। एक प्रोड्यूसर का बेटा होने की वजह से रमेश सिप्पी को फिल्म मेकिंग की विधा विरासत में मिली थी। रमेश सिप्पी शायद ऐसे एकलौते बेटे होंगे, जिन्होने फिल्म बनाने के लिए कभी पिता के नाम का सहारा नहीं लिया। पिता जीपी सिप्पी जब शम्मी कपूर के साथ फिल्म ब्रह्मचारी की शूटिंग कर रहे थे। उसी वक्त रमेश सिप्पी ने अपने फिल्म की कहानी तैयार करके शम्मी कपूर को सुना दी थी और उन्हे फिल्म में काम करने के लिए राजी कर लिया था। जानते हैं उस फिल्म का क्या नाम था। वो थी अंदाज़। शम्मी कपूर की हामी के बाद रमेश सिप्पी ने अपने पिता को बताया कि एक फिल्म मैं बनाने जा रहा हूं, जिसके लिए मैं शम्मी कपूर से बात कर ली है।

पिता ने पूछा कि एक्ट्रेस कौन होगी,उनके साथ। इस पर रमेश सिप्पी ने कहा कि नूतन को लेने की सोच रहां हूं, तब पिता बोले नूतन नहीं नई जोड़ी बनाओ। इसके बाद रमेश सिप्पी ने इंडस्ट्री में नई नई आई हेमा मालिनी से बात की और बात बन गई। इसके बाद राजेश खन्ना को फिल्म में साइन किया और इस तरह 25 साल की उम्र में फिल्म अंदाज़ को निर्देशित किया वो भी शम्मी कपूर जैसे कामयाब व मजे हुए कलाकार को लेकर। हालाकि उस वक्त राजेश खन्ना और हेमा मालिनी उतने कामयाब नहीं हुए थे, लेकिन रमेश सिप्पी की फिल्मों ने राजेश खन्ना और हेमा मालिनी को कामयाब बनाया। अंदाज़ की कामयाबी के बाद सीता और गीता, शोले,सागर,शान और शक्ति जैसी फिल्में बनाकर रमेश सिप्पी कामयाबी का दुसरा पर्याय बन गए।

रमेश सिप्पी ने एक टीवी सीरियल भी बनाया। बुनियाद नाम के इस सीरियल को लोगों ने खूब पसंद किया था। जो देश के विभाजन त्रासदी पर आधारित था। इसी सीरियल के ऑडिशन पर उनकी मुलाकात किरण जुनेजा नाम की लड़की से हुई। रमेश सिप्पी किरण को देखते ही दिल दे बैठे। इस सीरियल की शूटिंग के दौरान दोनों काफी करीब आ गए और अपनी पहली पत्नी गीता को तलाक देने का मन बना लिया। किरण जुनेजा रमेश सिप्पी से 23 साल छोटी थी,बावजूद इसके दोनों ने उम्र के फासले को दरकिनार कर 1986 में शादी कर ली।

https://www.youtube.com/watch?v=kcFyQwdAZ7g

रमेश सिप्पी की छोटी उम्र की वजह से कहते हैं, उस समय की मशहूर लेखक जोड़ी सलीम-जावेद ने मजाक उड़ाया था। पर जब यही रमेश सिप्पी कामयाब हुए, तो सलीम-जावेद की ही लिखी फिल्मों को डायरेक्ट किया।

ये भी पढ़े: Akshay ने Bade Miyan Chote Miyan की शूटिंग की शुरू, Tiger Shroff को बोला जब मैंने फिल्में करना शुरू की थीं तब तुम पैदा हुए थे

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें