नहीं रहे मशहूर फिल्मकार Kumar Sahani, 83 की उम्र में दुनिया को कहा अलविदा!

कुमार साहनी न केवल मशहूर डायरेक्टर थे बल्कि वह एजुकेटर और लेखक भी थे। फिल्मकार का इस तरह से अचानक दुनिया छोड़ जाना इंडस्ट्री को बड़ा झटका दे गया है।

बॉलीवुड इंडस्ट्री में एक के बाद एक दुखद खबर सामने आ रही है। हाल ही में ‘दंगल’ फिल्म अभिनेत्री सुहानी भटनागर की मौत हुई। इसके बाद जाने-माने अभिनेता ऋतुराज सिंह इस दुनिया को अलविदा कह गए। अब इसी बीच एक और खबर सामने आई है जिसने हर किसी को निराश कर दिया। दरअसल, मशहूर फिल्ममेकर कुमार साहनी इस दुनिया को अलविदा कह गए। 83 साल की उम्र में वह कुछ बीमारियों से जूझ रहे थे जिसकी वजह से उन्होंने बीती रात दम तोड़ दिया।

लंबे समय से थे बीमार
मीडिया रिपोर्ट की माने तो 18 फरवरी को कुमार साहनी को पश्चिम बंगाल के डकोरिया स्थित अस्पताल AMRI में भर्ती कराया गया था। यहां पर डॉक्टर की निगरानी में उनका इलाज चल रहा था लेकिन अचानक ही उनके हालात ज्यादा खराब हो गए जिसकी वजह से फिल्मकार आईसीयू में थे। इसी बीच शनिवार रात करीब 10:30 बजे उन्होंने दम तोड़ दिया।

दोस्त ने दी निधन की खबर
निर्देशक की करीबी दोस्त मीता ने बताया कि “कल रात लगभग 11 बजे कोलकाता के एक अस्पताल में उम्र से जुड़े हेल्थ इश्यूज की वजह से उनका निधन हो गया। वो बीमार थे और उनकी हेल्थ भी बिगड़ रही थी। ये एक बहुत बड़ी व्यक्तिगत क्षति है। हम उनके परिवार के संपर्क में थे। कुमार और मैं खूब बातें करते थे और मुझे पता था कि वो बीमार हैं और अस्पताल जाते रहते हैं।”

बता दें, कुमार साहनी का जन्म 1940 में हुआ था। उन्होंने पुणे फिल्म इंस्टीट्यूट से पढ़ाई की थी। उन्होंने अपने करियर में कई अवार्ड भी हासिल किया जिसमें बेस्ट फिल्म का ‘फिल्म फेयर क्रिटिक्स अवार्ड’ शामिल था। इतना ही नहीं बल्कि उन्हें वर्ल्ड आफ सिनेमा में योगदान के लिए साल 1990 में रॉटरडैम का इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल- FIPRESCI अवॉर्ड भी मिला। इसके अलावा कुमार साहनी साल 1998 में प्रिंस क्लॉज अवॉर्ड से भी नवाजे गए थे।

इन फिल्मों के रहे निर्माता
बता दें, कुमार साहनी ने अपने करियर में ‘तरंग’, ‘कस्बा’, ‘दर्पण’, ‘चार अध्याय’ जैसी फिल्मों को डायरेक्ट किया था। इसके अलावा उन्होंने कई शॉर्ट फिल्में भी बनाई थी। हालांकि साल 2004 के बाद वह इस तरह की प्रोजेक्ट से पूरी तरह से दूर हो गए थे। उन्हें फिल्म माया दर्पण, तरंग और डॉक्यूमेंट्री Bhavantarana के लिए नेशनल अवार्ड से भी नवाजा गया।

खास बात यह है कि कुमार साहनी न केवल मशहूर डायरेक्टर हुआ करते थे बल्कि वह एजुकेटर और लेखक भी थे। फिल्मकार का इस तरह से अचानक दुनिया छोड़ जाना फिल्म इंडस्ट्री को एक बड़ा झटका दे गया है। वही उनके फैंस भी गमगीन है। सोशल मीडिया से लेकर हर तरफ फिल्मकार को श्रद्धांजलि दी जा रही है।

ये भी पढ़ें: B’Day: Danny Denzongpa का नाम सुनते ही कांपते थे लोग, एक्टिंग के आगे फीके लगते हीरो, सिक्किम की रानी से की शादी!

ताज़ा ख़बरें